CORONAVIRUS Vaccine in Hindi | कोरोनावायरस की वैक्सीन का सच

कोरोना वायरस को लेकर आप के मन में बहुत सवाल आ रहे होंगे जैसे की CORONAVIRUS Vaccine कब बनेगी, कैसे बनेगी, और कितना समय लगेगा Vaccine बनने में, और कोरोना वायरस इतना खतरनाक क्यों है ?

कोरोना वायरस इतना खतरनाक क्यों है ?

दोस्तों CORONAVIRUS Vaccine के बारे में जानने से पहले ये जान लेते है की कोरोना वायरस इतना खतरनाक क्यों है ?

कोरोना वायरस हमारे शरीर में आँख, नाक और मुँह से प्रवेश करता है और हमारे लंग्स को फ्रीज करना शुरू कर देता है, जिससे हमें सांस लेने में समस्या होने लगती है और हमारा शवशन तंत्र फेल हो जाता है, जिससे हमारी मौत भी हो सकती है।

CORONAVIRUS Vaccine

  • हम सब जानते है की कोरोना एक नया वायरस है और हमारी बॉडी को ये पता नहीं है, की इससे हमें लड़ना कैसे है, जब भी कोई नया वायरस हमारे शरीर में प्रवेश करता है, तो हमारी बॉडी उसकी एक एंटीबाडी बनाती है, और बनाने के बाद उस वायरस को ख़त्म कर देती है, हालाँकि ये नया वायरस है इसीलिए इसकी एंटीबाडी बनने में टाइम लग रहा है।
  • CORONAVIRUS Vaccine बनाने का कार्य शुरू हो चुका है आइये जान लेते है की वैक्सीन बनती कैसे है सबसे पहले वायरस को काटा जाता है, मतलब उसको अप्रभावी बनाया जाता है जिससे की वो अपना काम न कर पाए फिर उसको स्वथ्य लोगो के अंदर इंजेक्ट किया जाता है।
  • इसके लिए अभी स्वयंसेवक आना शुरू हो गए है जिनको दिनों के हिसाब से पैसे दिए जा रहे है, आपको बता दे की जब ये अप्रभावी वायरस स्वथ्य वालंटियर को इंजेक्ट किया जाता है तो वालंटियर की बॉडी उसका एंटीबाडी बना कर देती है, और जब एंटीबाडी बन जाती हैं तो वालंटियर के खून से वो एंटीबाडी निकाल कर उसकी वैक्सीन बनाई जाती है।
  • आपको ये जानना भी ज़रूरी है की वैक्सीन को बनाना कोई आसान काम नहीं है, वैक्सीन बनाने के चार अलग अलग चरण होते है, परीक्षण का काम पहले जानवरों पर किया जाता है फिर अलग अलग इंसानो पर किया जाता है, और ये पता लगाया जाता है की इसके कोई दुष्परिणाम तो नहीं हो रहे और अन्य बीमारियों के साथ इसके क्या नतीजे आ रहे है, सारी चीज़े करने के बाद वैक्सीन को मंज़ूरी दी जाती है।
  • आपको बता दे की वैक्सीन तो बन चुकी है, लेकिन अभी बहुत कुछ होना बाकी है उसको बाजार में लाने के लिए, ताकि ये सुनिश्चित किया जा सके की ये वैक्सीन कोरोना को मारने के लिए सौ प्रतिशत सही है, दोस्तों अभी तक कोई भी ऐसी वैक्सीन नहीं बनी है, जिसको बनने में डेढ़ साल से कम समय लगा हो ।
  • इसीलिए जनवरी-फरवरी 2021 के पहले इस वैक्सीन के आने की संभावना नहीं है,  और यदि इसके पहले यह वैक्सीन मार्केट में आ  जाती है तो यह पहली ऐसी वैक्सीन होगी जिसको बनने में डेढ़ साल से कम का समय लगा हो।

इसलिए समझदारी इसी में है कि सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें और कोरोनावायरस को फैलने से रोकें..



यदि आपको यह पोस्ट (कोरोना वायरस की वैक्सीन का सच | CORONAVIRUS Vaccine) पसंद आई है, तो कृपया इसको सोशल मीडिया जैसे कि फेसबुक, टि्वटर पर शेयर करना ना भूले और यदि इस पोस्ट से संबंधित कोई सुधार या कोई सवाल हो तो कमेंट करके जरूर बताएं धन्यवाद…

5 thoughts on “CORONAVIRUS Vaccine in Hindi | कोरोनावायरस की वैक्सीन का सच

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!