Why do prices end 99, क्यों रखते है MRP ₹99, ₹399, ₹999??

Why Prices End with 99?…why prices are in nine 99 rupee?…Price set 1 rupee less?

दोस्तों आपने देखा होगा ज्यादातर प्रोडक्ट की MRP ₹99 ₹399 ₹999 इसी तरीके की  होती है, तो क्या आप जानते है, क्यों रखते है MRP ₹99, ₹399, ₹999?? ( Why do prices end 99 )  तो इस पोस्ट में इसी के बारे में बात करेंगे…

  • साइकोलॉजिकल प्राइसिंग ( Psychological Pricing is a reason of prices end 99 )

साइकोलॉजिकल प्राइसिंग में एक प्रकार का हमारे बीच भ्रम पैदा किया जाता है, मान लो कि मैंने आज कोई फोन खरीदा जिसकी कीमत है ₹15400 और यदि मुझसे कोई पूछता है, तो मैं उसको बताऊंगा इसकी कीमत ₹15000 है क्योंकि हमारा दिमाग कुछ इसी प्रकार से काम करता है और इसी का फायदा उठाया जाता है।

ऐसा इसलिए होता है क्योंकि हमारा दिमाग बाएं से दाएं अंको को गिनता है इस स्थिति में मुझे मेरे फोन की कीमत ₹15400 से सिर्फ ₹15000 याद रह जाती है। मान लो आपका ₹900 का बजट है, और आपको एक जींस खरीदना है, और यदि आपको कोई जींस पसंद आ जाए जिसकी कीमत ₹999 हो, तो आप उसको खरीद लोगे ऐसी स्थिति में जो आखिरी के अंक हैं उन पर आपका ध्यान नहीं जाएगा, लेकिन यदि जींस की कीमत ₹1000 हो तो आप फिर उसको नहीं खरीदोगे क्योंकि फिर आपको ऐसा महसूस होगा कि यह जींस हमारे बजट में नहीं है, क्योंकि उसकी कीमत अब 4 अंकों में हो चुकी है।

तो साइकोलॉजिकल प्राइसिंग प्रोडक्ट को बेचने का एक तरीका होता है जिससे कि ज्यादा से ज्यादा प्रोडक्टों को बेचा जा सके।

  • काला धन

मान लो कि आपने कोई चीज खरीदी जिसकी कीमत है, 1999 रुपए तो आप ₹2000 देकर घर आ जाओगे, आप जो बचा हुआ ₹1 है वह वापिस नहीं लोगे, अब आप सोच रहे होगे एक रुपए छोड़ने से क्या काला धन इकट्ठा हो जाएगा लेकिन जरा ध्यान दीजिए की 80 से 90% लोग वह एक रुपए छोड़ देते हैं।

आइए अब इसको थोड़ा और समझते हैं बिग बाजार के पूरे भारत में लगभग 250 आउटलेट हैं यदि प्रतिदिन हर बिग बाजार पर 250 लोग अपना एक रुपए छोड़ देते हैं, तो यह होता है महीने का 18 लाख ₹75000 जिस पर ना तो कोई टैक्स लगता है ना ही इसकी कोई स्लिप मिलती है। तो उस एक रुपए को वहां पर छोड़ने से अच्छा है कि किसी गरीब को दे दिया जाए।

»तो डार्क वेब ऐसा होता है, डार्क वेब के बारे में सबकुछ

»UPI Fraud ऐसे करते है, Phonepe google pay और PayTm पर

हम लोग आखिर एक रुपए छोड़ते क्यों हैं????

ज्यादातर लोग अपना एक रुपए इसलिए छोड़ देते हैं कि मान लो आप इतने बड़े मॉल में गए, वहां पर आपने ₹2999 का सामान खरीदा और यदि आप  बचा हुआ एक रुपए मांगेंगे तो बहुत ही ऑकवर्ड फील होगा क्योंकि आसपास के लोग आप को देखेंगे और इस स्थिति में आप यह सोचोगे कि यह बाकी के लोग मेरे बारे में क्या सोचेंगे??  जब आप ₹1 चिल्लर मांगोगे।


यदि आपको यह पोस्ट (क्यों रखते है MRP ₹99, ₹399, ₹999??) पसंद आई है, तो कृपया इसको सोशल मीडिया जैसे कि फेसबुक, टि्वटर पर शेयर करना ना भूले और यदि इस पोस्ट से संबंधित कोई सुधार या कोई सवाल हो तो कमेंट करके जरूर बताएं धन्यवाद…

One thought on “Why do prices end 99, क्यों रखते है MRP ₹99, ₹399, ₹999??

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!